Skip to main content

भाजपा सांसद के पुत्र पर लगा यौन शोषण का आरोप


नई दिल्ली। भाजपा सांसद और वरिष्ठ नेता स्वप्न दासगुप्ता के बेटे सौम्यसृजन दासगुप्ता पर तीन महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर तीनो महिलाओं ने भाजपा नेता के पुत्र पर गम्भीर आरोप लगाए हैं।
एक वेब पोर्टल की ख़बर के मुताबिक़ दिल्ली के स्टीफ़ंस कालेज से इतिहास में स्नातक कर चुका सौम्य अब सर्वोच्च न्यायालय में वकालत कर रहा है।
वहीं इन आरोपों पर सौम्य की कोई सफ़ाई सामने नहीं आयी है।


Comments

Popular posts from this blog

उत्तराखंड में फिर बढ़े कोरोना मरीज़, आंकड़ा 80 हज़ार के पार

  राज्य में कोरोना संक्रमण के मामलों में एक बार फिर उछाल आया है। बीते 24 घंटों में 830 नए मरीज मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। वहीं प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में इलाज के दौरान 12 कोरोना मरीजों की मौत हो गई है। आज नए मिले मामलों में अल्मोड़ा जिले के 53, बागेश्वर के 24, चमोली के 51, चंपावत के 17, देहरादून के 273, हरिद्वार के 63, नैनीताल के 105, पौड़ी के 37, पिथौरागढ़  के 61, रुद्रप्रयाग के 55, टिहरी के 44, उधमसिंह नगर के 37 तथा उत्तरकाशी जिले के 10 मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य का आंकड़ा बढ़कर 80,486 तक पहुंच गया है।  वहीं इस दौरान 513 कोरोना मरीज स्वस्थ होकर अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिए गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार 16,661 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके अलावा प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 12 कोरोना मरीजों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। पिछले कई दिनों से राज्य में नए कोरोना मरीजों की संख्या लगातार घट रही थी लेकिन आज इसके एकदम से छलांग लगाने के कारण चिंता बढ़ गई है।

राज्य में आज फिर बढ़े कोरोना के मामले

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामलों में आज एक बार फिर बढ़ोतरी हुई है। पिछले 24 घंटों में 420 नए मरीज़ मिलने से सरकार की चिंता बढ़ गयी है। वहीं राज्य में इलाज के दौरान 9 मरीज़ों ने दम तोड़ दिया। आज नए मिले मामलों में अल्मोड़ा जिले के 17, बागेश्वर के 12, चमोली के 28, चंपावत के 2, देहरादून के 153, हरिद्वार के 42, नैनीताल के 51, पौड़ी के 23, पिथौरागढ़ के 7, रुद्रप्रयाग के 28, टिहरी के 18, उधमसिंह नगर के 38 तथा उत्तरकाशी का 1 मरीज़ शामिल है। इसके अलावा 425 मरीज़ों को इलाज के बाद ठीक होने पर अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के 16597 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में इलाज के दौरान आज 9 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गयी है।

कुम्भ को लेकर हुई बैठक में बिफरी अखाड़ा परिषद, मुख्यमंत्री को सुनाई ख़री-ख़री

हरिद्वार। कुम्भ 2021 को लेकर आज मुख्यमंत्री के साथ हुई अखाड़ा परिषद की बैठक में संतो ने खूब खरी खोटी सुनाई। परिषद के पाधिकारियों ने कुम्भ की तैयारियों को लेकर सरकार व मेला प्रशासन पर उदासीनता बरतने का आरोप लगाया। हरिद्वार में अगले वर्ष होने वाले कुम्भ मेले की तैयारियां अभी तक शुरू नही हुई है। इसको लेकर सरकार पर लगातार आरोप लगते रहे हैं। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी कई बार अपनी नाराज़गी जता चुके हैं। मेले के आयोजन के लिए अखाड़ा परिषद के साथ विचार विमर्श करने व तैयारियों का जायजा लेने हेतु आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की गयी थी। बैठक में पहले तो अखाड़ा परिषद के संतो ने मुख्यमंत्री को एक घंटे इंतज़ार कराया, और जब अखाड़ों के प्रतिनिधि बैठक में पहुंचे तो उन्होंने मुख्यमंत्री व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक पर कुम्भ आयोजन को लेकर उदासीनता बरतने का आरोप लगाया। अखाड़ों के संतो ने कुम्भ मेला प्रशासन द्वारा परिषद की और से दिए गए प्रस्तावों पर काम न करने की शिकायत भी मुख्यमंत्री से की। अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने अखाड़ों में सुरक्षा, जमीनों पर से

विकास दर घटकर हुई 4.5%, मनमोहन सिंह ने कहा मोदी ने तबाह की अर्थव्यवस्था

नई दिल्ली। जुलाई-सितंबर की तिमाही में भी विकास दर गिरकर 4.5% हो गई है, जो 7 सालों के निचले स्तर पर है। इससे पिछली तिमाही में जीडीपी 5% रही थी। सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर नही आ रही है।  पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने गिरती विकास दर पर सरकार पर हमला बोला है। राजीव गांधी फाउंडेशन में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि मोदी सरकार के राज में किसान, युवा, गरीब, व्यापारी, उद्योगपति सब परेशान है। उन्होंने कहा कि सरकार सबको शक की निगाह से देखती है जिस कारण देश में विकास का रास्ता अवरुद्ध हो रहा है।  पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि आज सरकार की गलत नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था बेहद खराब दौर में पहुंच गई है। इससे उबर पाना आसान नही है। उन्होंने कहा कि सरकार इसको ठीक करने के लिए सही कदम नही उठा रही है। पिछली सरकारों की शुरू की गई योजनाओं व तब बांटे गए लोन को वर्तमान सरकार गलत बताकर उद्योगों का माहौल खराब कर रही है। उद्योग जगत में डर का माहौल है, इसलिए कोई भी व्यापारी नए प्रोजेक्ट लगाने की हिम्मत नही जुटा पा रहा है।

इस बार छोटी और बड़ी दिवाली एक ही दिन, 50 सालों बाद बना ऐसा योग

महालक्ष्मी योग में पूजन करने से होती है सुख-समृद्धि कि प्राप्ति हरिद्वार ll (हमारे संवाददाता ) इस बार कुछ ऐसा ज्योतिषीय योग बन रहा है कि छोटी और बड़ी दिवाली एक ही दिन मनाई जाएगी. यानि 27 अक्टूबर को बड़ी दिवाली के दिन ही छोटी दिवाली का पूजन भी किया जायेगा. ज्योतिषाचार्य इस योग को अद्भुत योग कि संज्ञा दे रहे है जो करीब 50 वर्षों के बाद बन रहा है. प्रख्यात ज्योतिषाचार्य डॉ प्रतीक मिश्रपुरी ने बताया कि सूर्य और चन्द्रमा कि स्थिति से पर्वों का निर्धारण होता है. उन्होंने बताया कि इस वर्ष नर्क चतुर्दशी (छोटी दिवाली) व दीपावली का महालक्ष्मी पूजन 27 अक्टूबर को ही होगा. देवताओं और पितृ देवताओं कि पूजा एक साथ होने के कारण इस दिवाली पर अद्भुत महालक्ष्मी योग बन रहा है. इस योग में विधि विधान से लक्ष्मी जी का पूजन करने से सुख, समृद्धि तथा ऐश्वर्या कि प्राप्ति होती है.

कांग्रेस ने भरी हुंकार, 30 नवंबर को "भारत बचाओ" रैली

  दिल्ली के रामलीला मैदान में जुटेंगे देशभर के कार्यकर्ता नई दिल्ली।।  आज दिल्ली में हुई कांग्रेस के महासचिवों व प्रदेश अध्यक्षों की बैठक में मोदी सरकार के खिलाफ एक महारैली करने का फैंसला लिया गया है। पार्टी के संगठन महासचिव वेणुगोपाल ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए बताया कि मोदी सरकार की विफल आर्थिक नीतियों, बढ़ती बेरोजगारी व किसानों की समस्याओं को लेकर पार्टी दिल्ली के रामलीला मैदान में 30 नवंबर को भारत बचाओ रैली आयोजित करेगी। इसके लिए कांग्रेस के शीर्ष नेताओं को जिम्मेदारी बांट दी गयी गई।

दो लोगों को मिला एक ही एकाउंट नंबर, एक ने पैसे डाले-दूसरे ने निकाले, सोचा शायद मोदी ने भेजें हैं

भोपाल। मध्य प्रदेश के भिंड जिले के रुरई गांव के हुकम सिंह व रोनी गांव के हुकम सिंह ने एसबीआई की आलमपुर शाखा में खाता खोला था। दोनो के एक ही नाम होने के कारण बैंक ने गलती से दोनों को एक ही एकाउंट नंबर दे दिया।  रुरई गांव वाले हुकम सिंह रोजगार की तलाश में हरियाणा चले गए। वो वहाँ पैसा कमाकर अपने खाते में जमा करते रहे। उधर रोनी गांव वाले हुकम सिंह उसी खाते से ये सोचकर पैसा निकालते रहे कि शायद किसी सरकारी योजना के तहत मोदी ने पैसा भेजा है। छः महीने बाद जब रुरई वाले हुकम सिंह अपने गांव वापस आये तो अपनी पासबुक में एंट्री कराने बैंक गए। खाते का बैलेंस जानकर उनके होश उड़ गए। उनके एकाउंट में 1,40,000 रुपये की जगह सिर्फ 35,000 रुपये शेष थे। बैंक मैनेजर से शिकायत करने पर जांच हुई, तब सारा माजरा समझ में आया की खाते से रकम दूसरे हुकम सिंह ने निकाली है।

Big breaking :- लोकसभा चुनावों के दौरान भाजपा को चंदे में मिले हज़ारों करोड़, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

दिल्ली। चुनावी चंदे को लेकर भाजपा 2014 के बाद से ही निशाने पर रही है। लेकिन अब राजनैतिक चंदे को लेकर आयी रिपोर्ट से सियासत गर्मा गयी है। दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान भाजपा को हज़ारों करोड़ रुपये चंदे के रूप में मिले। एक रिपोर्ट के अनुसार 10 मार्च 2019 से 23 मई 2019 तक बीजेपी को हर दिन करीब 47 करोड़ रुपये चंदा मिला। यानी पार्टी को 3 महीने से भी कम समय में 3650 करोड़ रुपये चंदा प्राप्त हुआ। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद विपक्षी दलों ने भाजपा से सफाई मांगी है। जानकारों का मानना है कि आने वाले दिनों में चंदे को लेकर सत्तारूढ़ भाजपा पर विपक्ष और अधिक हमलावर रुख अपना सकता है।

किसने कहा कि अब कांग्रेस को गांधी परिवार से मुक्त हो जाना चाहिए

मोदी को चुनौती देने के लिए मजबूत क्षेत्रीय नेताओं का समूह बने कांग्रेस यश पाल ll वरिष्ठ पत्रकार मार्क टुली ने अंग्रेजी के एक अखबार में कांग्रेस पार्टी को लेकर लिखे अपने लेख से एक नई बहस छेड़ दी है। दो राज्यों के चुनावों में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन का जिक्र करते हुए उन्होंने लिखा है कि हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा व महाराष्ट्र में एनसीपी नेता शरद पंवार से गठबंधन के कारण कांग्रेस ने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया है। मार्क का मानना है की अब कांग्रेस पार्टी को गांधी परिवार से मुक्ति पाकर मजबूत क्षेत्रीय नेताओं के आधार पर पार्टी का पुनर्गठन करना चाहिए। उनके अनुसार गांधी परिवार की पकड़ अब देश की राजनीति पर कमजोर पड़ने लगी है और वो नरेंद्र मोदी को चुनौती देने में नाकाम रहा है। आम चुनावों का जिक्र करते हुए वो लिखते हैं की पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, पंजाब, ओडिसा, तमिलनाडु आदि जिन राज्यों में पार्टियों के पास मजबूत स्थानीय नेता थे, वहां-वहां वो बीजेपी के मुकाबले अपनी पार्टियों को जितवाने में कामयाब हुए हैं। मार्क ने आगे लिखा है की देश की राजनीति में अब गांधी परिवार का ब्रांड