Skip to main content

राज्य में दो जिलाधिकारियों के तबादले, सी रविशंकर होंगे हरिद्वार के नए DM


देहरादून। प्रदेश के दो महत्वपूर्ण जनपदों के जिलाधिकारियों को शासन ने बदल दिया है। हरिद्वार के जिलाधिकारी दीपेंद्र चौधरी के स्थान पर देहरादून के जिलाधिकारी सी रविशंकर को हरिद्वार की कमान सौंपी गई है। वहीं मुख्यमंत्री के अपर सचिव आशीष कुमार श्रीवास्तव को देहरादून का नया जिलाधिकारी बनाया गया है।



अब तक हरिद्वार के जिलाधिकारी रहे दीपेंद्र कुमार चौधरी को प्रतीक्षा सूची में रखा गया है।


Comments

Popular posts from this blog

अब हरिद्वार में कम खर्च में होगा डायलिसिस

ह रिद्वार के कनखल स्थित रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में अब डायलिसिस यूनिट की शुरुआत होने जा रही है, जिसमें हाईटेक मशीनों द्वारा किडनी के मरीजों को डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम के सचिव स्वामी नित्यशुद्धानंद ने बताया कि हरिद्वार में पहली बार कम मूल्य पर डायलिसिस की सुविधा किडनी के मरीजों को उपलब्ध हो सकेगी। उन्होंने बताया कि उच्च शिक्षित विशेषज्ञ एवं चिकित्सक की देखरेख में इस यूनिट का संचालन होगा। इसके बाद यहां के रोगियों को डायलिसिस करने के लिए बाहर नही जाना पड़ेगा।  उन्होंने कहा कि संस्थान में लंबे समय से इसकी मांग की जा रही थी। मिशन के अथक प्रयासों एवं जनता के सहयोग से यह डायलिसिस यूनिट शुरू होने जा रही है, जिसका उद्घाटन शुक्रवार को हरिद्वार के जिलाधिकारी सी रविशंकर के हाथों से होगा। इस समारोह में विशिष्ट अतिथि के तौर पर मैक्स हॉस्पिटल देहरादून के उपाध्यक्ष डॉ संदीप तलवार और नेफ्रोलॉजिस्ट डॉक्टर पुनीत अरोड़ा भी मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम के संयोजक स्वामी दयाधिपानंद महाराज ने बताया कि इस केंद्र के सुचारू रूप से संचालन के लिए गुरुवार को  रामकृष्ण मिशन में  विशेष प

कुम्भ को लेकर हुई बैठक में बिफरी अखाड़ा परिषद, मुख्यमंत्री को सुनाई ख़री-ख़री

हरिद्वार। कुम्भ 2021 को लेकर आज मुख्यमंत्री के साथ हुई अखाड़ा परिषद की बैठक में संतो ने खूब खरी खोटी सुनाई। परिषद के पाधिकारियों ने कुम्भ की तैयारियों को लेकर सरकार व मेला प्रशासन पर उदासीनता बरतने का आरोप लगाया। हरिद्वार में अगले वर्ष होने वाले कुम्भ मेले की तैयारियां अभी तक शुरू नही हुई है। इसको लेकर सरकार पर लगातार आरोप लगते रहे हैं। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी कई बार अपनी नाराज़गी जता चुके हैं। मेले के आयोजन के लिए अखाड़ा परिषद के साथ विचार विमर्श करने व तैयारियों का जायजा लेने हेतु आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की गयी थी। बैठक में पहले तो अखाड़ा परिषद के संतो ने मुख्यमंत्री को एक घंटे इंतज़ार कराया, और जब अखाड़ों के प्रतिनिधि बैठक में पहुंचे तो उन्होंने मुख्यमंत्री व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक पर कुम्भ आयोजन को लेकर उदासीनता बरतने का आरोप लगाया। अखाड़ों के संतो ने कुम्भ मेला प्रशासन द्वारा परिषद की और से दिए गए प्रस्तावों पर काम न करने की शिकायत भी मुख्यमंत्री से की। अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने अखाड़ों में सुरक्षा, जमीनों पर से

Breaking-: आज फिर बदलेगा का मौसम का मिजाज, राज्य में बर्फबारी और बारिश के आसार

देहरादून। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी कर राज्य के ऊंचाई वाले इलाकों में अगले 24 घंटो में बर्फबारी होने की संभावना जताई है। रिपोर्ट के अनुसार चमोली, उत्तरकाशी, जोशीमठ, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, बद्री-केदार के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी हो सकती है, वहीं निचले इलाकों में बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार आज मैदानी इलाकों में घना कोहरा छाया रहेगा।

उत्तराखंड में 1391 कोरोना संक्रमित, 9 की मौत

उत्तराखंड में आज एक बार फिर बड़ी संख्या में कोरोना मरीज मिलने से सरकार की चिंता बढ़ गई है। तमाम प्रयासों के बाद भी संक्रमण रुकने का नाम नही ले रहा है। राज्य में आज 1391 नए संक्रमित मिलने के बाद यहां का कुल आंकड़ा बढ़कर 34407 तक पहुंच गया। वहीं इलाज के दौरान राज्य के विभिन्न अस्पतालों में 9 मरीजों ने दम तोड़ दिया। आज नए सामने आए मामलों में चमोली जिले में 7, चंपावत में 23, देहरादून में 421, हरिद्वार में 219, नैनीताल में 226, पौड़ी में 38, पिथौरागढ़ में 30, रुद्रप्रयाग में 27, टिहरी में 31, उधमसिंहनगर में 318 तथा उत्तरकाशी जिले में 51 मरीज मिले हैं। वही इलाज के बाद ठीक होने वालों की संख्या आज 1008 रही। इसके साथ ही 12611 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। प्रदेश में जिन 9 लोगों की इलाज के दौरान मौत हुई उनमें से 4 लोगों का निधन एम्स ऋषिकेश में, तीन का दून मेडिकल कॉलेज देहरादून तथा दो का डॉ सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी में हुआ है।

लॉक डाउन से तीर्थ पुरोहितों व कथा व्यासों की आजीविका पर हुआ असर, सरकार दे राहत पैकेज

पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने धार्मिक कर्मकांडों, कथा वाचकों, कथा व्यासों, तीर्थ पुरोहितों आदि की लॉकडाउन से हुई गम्भीर आर्थिक हालात पर चिंता व्यक्त की है। उपाध्याय ने कहा कि उन्होंने आज हरिद्वार, बनारस, देव प्रयाग, पुष्कर, उज्जैन, रामेश्वरम आदि तीर्थ स्थानों के पुरोहितों से बात की है। कई लोग जिनका परिवार यजमानों के पूजा कार्य से चलता है, उनके परिवार बेहद मुश्किल आर्थिक हालात से गुज़र रहे हैं। उन्होंने कहा कि नवरात्री में भगवती पूजा और चण्डीपाठ से ये ब्राह्मणजन अपने परिवारों के लिए कई महीनो का खर्च निकाल लेते थे, लेकिन इस बार लॉकडाउन के चलते वह भी सम्भव नहीं हो पाया। किशोर ने कहा कि मंदिरों के कपाट बंद होने के कारण वहाँ के पुजारियों के सामने भी अपने परिवारों की आजीविका का संकट पैदा हो गया है। यात्री न आने से तीर्थ पुरोहितों को भी बहुत आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। कथाव्यासों की भी यही स्थिति है। इन पुनीत कार्यों में विप्र वर्ग के साथ जुड़े टेंट, साउंड, भण्डारी-रसोईया आदि लोगो की भी आर्थिक स्थिति ख़राब हो गई है। उन्होंने कहा कि ये यात्रा सीजन है, हाल ही में गुजरात क

उत्तराखंड में फिर बढ़े कोरोना मरीज़, आंकड़ा 80 हज़ार के पार

  राज्य में कोरोना संक्रमण के मामलों में एक बार फिर उछाल आया है। बीते 24 घंटों में 830 नए मरीज मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। वहीं प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में इलाज के दौरान 12 कोरोना मरीजों की मौत हो गई है। आज नए मिले मामलों में अल्मोड़ा जिले के 53, बागेश्वर के 24, चमोली के 51, चंपावत के 17, देहरादून के 273, हरिद्वार के 63, नैनीताल के 105, पौड़ी के 37, पिथौरागढ़  के 61, रुद्रप्रयाग के 55, टिहरी के 44, उधमसिंह नगर के 37 तथा उत्तरकाशी जिले के 10 मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य का आंकड़ा बढ़कर 80,486 तक पहुंच गया है।  वहीं इस दौरान 513 कोरोना मरीज स्वस्थ होकर अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिए गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार 16,661 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके अलावा प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 12 कोरोना मरीजों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। पिछले कई दिनों से राज्य में नए कोरोना मरीजों की संख्या लगातार घट रही थी लेकिन आज इसके एकदम से छलांग लगाने के कारण चिंता बढ़ गई है।

एक साल में भारत का क़र्ज़ 13 लाख करोड़ रुपये बढ़ा

  पिछले कुछ वर्षों से भारत सरकार के कर्ज में तेज़ी से उछाल आया है। गत वर्ष की बात करें तो एक साल में सरकार पर 13 लाख करोड़ से ज्यादा की देनदारी बढ़ गयी है। वित्त मंत्रालय द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। एक खबर के मुताबिक पिछले शुक्रवार को जारी “रिपोर्ट ऑन पब्लिक डेब्ट मैनेजमेंट” के अनुसार जून 2020 में सरकार का कर्ज बढ़कर 101.3 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है, जो जून 2019 में 88.18 लाख करोड़ रुपये था। यानी जून 2019 से जून 2020 तक के बीच भारत सरकार की देनदारी 13.12 लाख करोड रुपए बढ़ गयी है। इतना ही नहीं यदि इस वर्ष मार्च के आंकड़ों पर नजर डालें तो उस वक़्त तक कर्ज 94.6 लाख करोड़ रुपये का था। इस वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में सरकार की लायबिलिटी 6.7 लाख करोड़ रुपये और बढ गयी, जिसके बाद जून 2020 के अंत में यह आंकड़ा बढ़कर 101.3 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। आपको बता दें कि विपक्षी दल कांग्रेस पहले से ही सरकार पर बेतहाशा कर्ज लेने को लेकर हमलावर रही है। इस नई रिपोर्ट के आने के बाद राजनीतिक संग्राम होना लाजमी है। विदित हो कोरोना महामारी के कारण सरकार की आमदनी पर संकट

शेयर मार्केट में भारी गिरावट से हाहाकार, निवेशकों के 10 लाख करोड़ डूबे

कोरोना वायरस बढ़ते खतरे की वजह से दुनिया भर के बाज़ारों में ऐतिहासिक गिरावट देखने को मिली। भारतीय शेयर मार्केट का सेंसेक्स आज 1450 अंक नीचे आ गया। इस गिरावट से निवेशकों के एक दिन में करीब 4 लाख करोड़ रुपये रुपये डूब गए। विदित हो कि पिछले 6 दिनों से जारी इस गिरावट ने निवेशकों को 10 लाख करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाया है।

राज्य में आज फिर बढ़े कोरोना के मामले

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामलों में आज एक बार फिर बढ़ोतरी हुई है। पिछले 24 घंटों में 420 नए मरीज़ मिलने से सरकार की चिंता बढ़ गयी है। वहीं राज्य में इलाज के दौरान 9 मरीज़ों ने दम तोड़ दिया। आज नए मिले मामलों में अल्मोड़ा जिले के 17, बागेश्वर के 12, चमोली के 28, चंपावत के 2, देहरादून के 153, हरिद्वार के 42, नैनीताल के 51, पौड़ी के 23, पिथौरागढ़ के 7, रुद्रप्रयाग के 28, टिहरी के 18, उधमसिंह नगर के 38 तथा उत्तरकाशी का 1 मरीज़ शामिल है। इसके अलावा 425 मरीज़ों को इलाज के बाद ठीक होने पर अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के 16597 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में इलाज के दौरान आज 9 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गयी है।

किसने कहा कि अब कांग्रेस को गांधी परिवार से मुक्त हो जाना चाहिए

मोदी को चुनौती देने के लिए मजबूत क्षेत्रीय नेताओं का समूह बने कांग्रेस यश पाल ll वरिष्ठ पत्रकार मार्क टुली ने अंग्रेजी के एक अखबार में कांग्रेस पार्टी को लेकर लिखे अपने लेख से एक नई बहस छेड़ दी है। दो राज्यों के चुनावों में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन का जिक्र करते हुए उन्होंने लिखा है कि हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा व महाराष्ट्र में एनसीपी नेता शरद पंवार से गठबंधन के कारण कांग्रेस ने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया है। मार्क का मानना है की अब कांग्रेस पार्टी को गांधी परिवार से मुक्ति पाकर मजबूत क्षेत्रीय नेताओं के आधार पर पार्टी का पुनर्गठन करना चाहिए। उनके अनुसार गांधी परिवार की पकड़ अब देश की राजनीति पर कमजोर पड़ने लगी है और वो नरेंद्र मोदी को चुनौती देने में नाकाम रहा है। आम चुनावों का जिक्र करते हुए वो लिखते हैं की पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, पंजाब, ओडिसा, तमिलनाडु आदि जिन राज्यों में पार्टियों के पास मजबूत स्थानीय नेता थे, वहां-वहां वो बीजेपी के मुकाबले अपनी पार्टियों को जितवाने में कामयाब हुए हैं। मार्क ने आगे लिखा है की देश की राजनीति में अब गांधी परिवार का ब्रांड